सावधान... सोशल मीडिया पर लड़कियों के नाम पर फर्जी अकाउंट बनाकर युवाओं को ब्लैकमेल करने के मामले बढ़े.



यश कायरकर,;
हाल के दिनों में सोशल मीडिया पर युवतियों के नाम से फर्जी अकाउंट बनाकर युवाओं को सोशल मीडिया पर व्हाट्सएप ,फेसबुक ,इंस्टाग्राम, मैसेंजर, जैसे ऑनलाइन साइट पर ऐसे फर्जी अकाउंट और लड़कियों के फोटोज के सहारे मीठी-मीठी बातें करने वालों की जाल में फंसते नजर आ रहे हैं। इस तरह की घटना में सिर्फ युवक ही नहीं बल्कि जिन युवतियों का नाम और फोटो यह साइबर क्राइम करने वाले युवक अपने फर्जी अकाउंट में इस्तेमाल करते हैं उनकी भी समाज में बेवजह बदनामी हो रही है ।
ऐसे फर्जी अकाउंट और लड़कियों के फोटोज के सहारे मीठी-मीठी बातें कर फर्जी हनीट्रैप के सहारे अश्लील हरकतें कर अश्लील फोटोस वीडियो भेज युवाओं को बहकाने, उनसे भी अश्लील हरकतें कराकर वीडियो बनाकर भेजने के लिए उकसाया जा रहा है।और फिर उन क्लिप को वायरल कर समाज में बदनामी फैलाने की और परिवार को बताने की धमकी देकर जाल में फंसे युवाओं को ब्लैकमेल करने के काम आए दिन बड़ी मात्रा में घटित हो रहे है।
    और फिर सोशल मीडिया पर युवाओं को खुद ठगे जाने का अनुभव होने के बाद में कई युवा डिप्रेशन में चले जाते हैं , या फिर शराब की लत में आत्महत्या तक कर लेते हैं । जिस वजह से इस तरह के फर्जी अकाउंट चलाने वालों की तरफ पुलिस ने भी इस गंभीर मामले को गंभीरता से , सायबर सेल को भी अभी ऐसे फर्जी अकाउंट की जांच पड़ताल कर इनके ऊपर कठोर कार्रवाई करनी चाहिए । जिनसे आगे चलकर युवा वर्ग, भावी पीढ़ी बर्बाद ना हो जाए ।
      कुछ ठगे गए या फिर ऐसे जाल में फंसे हुए युवाओं द्वारा पता करने पर पता चला है कि आसपास के गांव के ही कुछ युवक जिनके पास इनके कांटेक्ट नंबर है वह इस तरह के फर्जी अकाउंट बनाकर युवाओं को ब्लैकमेल कर रहे हैं। कुछ समझदार और जागृत युवाओं को इन फर्जी अकाउंट के बारे में पता चलने पर उन्होंने उन्हें समझाने की भी कोशिश की , मगर फिर भी ऐसे फर्जी अकाउंट चलाने वाले कुछ युवा दूसरों को इस तरफ फर्जी अकाउंट के सहारे ब्लैकमेल कर पैसा वसूलने क्या गोरख धंधा अभी भी चला रहे हैं। और इस तरह का काम करने वाले परिसर के कुछ नाबालिग युवक ही होने की जानकारी हासिल हुई है जिनको पैसे की लालच देकर उनसे इस तरह के अकाउंट चलाने का काम परिसर का ही एक सरगना कर रहा है। नाम न बताने के तर्ज पर एक युवा ने इस तरह की जानकारी  दी है । 
      और लड़कियों के नाम पर फर्जी अकाउंट बनाकर युवाओं को जाल में फंसा कर लूटने की कोशिश करने वालों के बारे में शिकायत पुलिस में करने का भी मन ठगे जाने का एहसास हुए  कई युवा कर रहे हैं । तलोधी  बालापुर पुलिस स्टेशन अंतर्गत इस तरह की घटनाएं काफी बढ़ चुकी है इसलिए अब तलोधी पुलिस को भी गंभीरता से इनसे निपटना होगा।
      "अपना सोसिअल मीडिया अकॉउंट हमेशा लॉक राखिये, वो पब्लिक को खुला ना रखे, देर रात आनेवाले अनजान नंबर से आनेवाले विडिओ कॉल स्वीकार ना करे, वीडियो कॉल के दौरान किसी भी अजनबी या मित्र के किसी भी प्रकार के अनैतिक/ अश्लील अनुरोध को स्वीकार न करें। साइबर ठगी करने वाले अपराधियों द्वारा ऐसे वीडियो सेशन की स्क्रीन रिकॉर्डिंग का इस्तेमाल ब्लैकमेल करने और डराने- धमकाने के लिए किया जा सकता है। ऐसी धोखाधड़ी के मामले में, आपको तुरंत अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन को रिपोर्ट करना चाहिए , या आप राष्ट्रीय साइबर अपराध रिपोर्टिंग पोर्टल (www.cybercrime.gov.in) पर ऑनलाइन रिपोर्ट कर सकते हैं . ऊचीत कार्यवाही की जाएगी।"
      - मंगेश भोयर, थानेदार 
      पोलीस स्टेशन, तलोधी (बा.)

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत:

झिंदाबाद!

राजुरा

[राजुरा][stack]

मूल

[मूल][grids]

चिमूर

[चिमूर][grids]