विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर घोडाझरी झील क्षेत्र को प्लास्टिक मुक्त बनाया गया।



 
नागभिड प्रतिनिधी 
        विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर 'स्वाब' नेचर केयर संस्था एवं नागभीड वनविभाग की ओर से पर्यावरण दिवस मनाया गया।
          इस समय घोड़ाझरी अभ्यारण्य क्षेत्र के घोडाझरी झील क्षेत्र में प्लास्टिक मुक्त पर्यावरण अभियान के तहत पूरे झील क्षेत्र से जो प्लास्टिक कचरा पर्यावरण के लिए हानिकारक है, वन्य जीव, सरीसृप, नए उगने वाले पौधे, उनके लिए हानिकर प्लास्टिक की बोतलें, प्लास्टिक की  पत्रावली, प्लास्टिक के गिलास, प्लास्टिक की थैलियां, शराब की बोतलें, , प्लास्टिक कचरा एकत्र किए गया और पूरे झील क्षेत्र को प्लास्टिक मुक्त किया गया।
          उसके बाद घोडाजरी पर्यटन के लिए आने वाले पर्यटकों पर्यावरण के लिए बहुत हानिकारक इस प्लास्टिक प्रदूषण के बारे में जानकारी दी, वन क्षेत्र में यात्रा करते समय या धार्मिक स्थल पर जाते समय, प्लास्टिक की थैलियों, अपने साथ लायी प्लास्टिक की बोतलें, प्लास्टिक के पत्र क्षेत्र में फेंकने के स्थान पर कूड़ेदान में ही फेंकें, या फिर अपने साथ ले जाकर उसको कचरा रिसायकल के लिए दो ताकि इन्हें उठा कर ठीक से निस्तारित किया जाये. इस तरह के पर्यटकों को स्वाब नेचर केयर संस्था के कार्यकर्ताओं ने निर्देश दिए।
          इस पर्यावरण दिवस नागभीड़ वन परिक्षेत्र अधिकारी एस.बी. हजारे के मार्गदर्शन में और वन विभाग के सहयोग से एक संयुक्त अभियान चलाया गया। इस अवसर पर नगभिड़ बिट के वन रक्षक एच.एस. कुथे , स्वाब नेचर केयर संंस्था के अध्यक्ष कायरकर, सदस्य जीवेश सयाम, रोषण धोतरे, नितिन भेंडाले,सूरज भाकेरे, छत्रपति रामटेके, विनोद लेंडगुरे, रामचंद्र पंद्राम, साहिल सेलोकर, श्रेयस कायरकर, साहिल अगड़े, कैलाश बोरकर, मिनेश कुम्भले, आचल कायरकर, जबकि ब्रम्हपुरी सेे पहुुंचकर  स्वैच्छिक स्वच्छता मित्र के रूप में डॉ. कल्पना सुर्यवंशी गेडाम ने इस विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कार्यक्रम को क्रियान्वित करने में सहयोग किया।

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत:

झिंदाबाद!

राजुरा

[राजुरा][stack]

मूल

[मूल][grids]

चिमूर

[चिमूर][grids]